हरित खादी – सोलर चरखा मिशन

नया भारत के लिए नया खादी – सोलर चरखा मिशन के माध्यम से ग्रामीण आजीविका का निर्माण

यह सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय , खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग , भारतीय हरित खादी ग्रामोद्योग संस्थान की पहल है |

खनवां के बारे में

खनवां बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री माननीय श्री कृष्ण सिंह जी की जन्मस्थली है , इन्हें बिहार केसरी के नाम से भी जाना जाता है | माननीय राज्य मंत्री एम एस एम इ (MSME) श्री गिरिराज सिंह जी ने नवादा जिले के खनवां ग्राम को आदर्श ग्राम योजना के अंतर्गत मॉडल ग्राम के रूप में अपनाया है | भारतीय हरित खादी ग्रामोदय संस्थान ने अपना पहला प्रोजेक्ट एवं प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र, खनवां ग्राम से ही शुरू किया है | इस परियोजना का उद्धेश्य वैसे गरीब महिलाओं एवं युवाओं को प्रशिक्षित करना है, जो बेरोजगार हों या निम्न रोजगार स्तर के हों |
बिहार राज्य के नवादा जिले के खनवां ग्राम में सोलर चरखा का क्षेत्र परीक्षण काफी उत्साहजनक रहा| भारतीय हरित खादी ग्रामोद्योग संस्थान ने अकेले खनवां ग्राम में ही 1500 महिलाओं को सूत काटने एवं बुनाई का प्रशिक्षण दिया गया है एवं 8 (आठ) दुसरे केद्रों पर भी अन्य 1000 महिलाओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है  तथा इसके साथ-साथ 1200 कारीगरों के घर में भी सोलर चरखा अधिष्ठापित किया जा चूका है | खनवां ग्राम में प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र 20000 वर्ग मी.के क्षेत्रफल में फैला हुआ है तथा इसमें विशाल खेल  मैदान, बाग़-बगीचा, 5 शेड एवं विस्तृत खुली जगह भी है |

खनवां – मैप

पर जाएँ : https://goo.gl/maps/BtDYdu1sHaG2

खनवां – फोटो गैलरी

पर जाएँ : फोटो गैलरी 

खनवां विडियो गैलरी

पर जाएँ : विडियो – 1

पर जाएँ : विडियो – 2

परियोजना के बारे में

पारंपरिक वस्त्र उद्योग का ग्रामीण अर्थव्यवस्था के साथ सीधा संबंध है लेकिन यह ज्यादातर असंगठित और गैर-एकीकृत है । भारत में 6.6 मिलियन महिला कारीगरों में, बहुत कम ही महिलाएं देश के सामाजिक आर्थिक विकास में योगदान कर रही हैं, ऐसा इसलिए क्योंकि गैर कृषि क्षेत्र में आजीविका के अवसर या तो दुर्लभ हैं या तो महिलाओं के अनुकूल नहीं हैं | वहीँ ग्रामीण उत्पादकों को भी स्थानीय स्तर पर काफी समस्याएं है जैसे कच्ची संसाधनों का आभाव, सिमित टेक्नोलॉजी एवं विस्तृत बाजारों तक पहुँच कि कठिनाई |
इस समस्या का  समाधान करने के लिए भारतीय हरित खादी ग्रामोद्योग संस्थान ने खनवां ग्राम में  आर्थिक सशक्तिकरण के लिए 10 स्पिंडल सौर चरखा स्थापित किया ताकि ग्रामीण महिलाएं अपने घरों में भी काम करते हुए मासिक 6000/- रूपये से 10, 000/- रूपये तक कमा सकें |कच्चे  का वितरण एवं तैयार माल का संग्रह निकटवर्ती प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र के माध्यम से उनके दरवाजे पर ही होता है, जो पूरी तरह से सोलर पॉवर पर ही चलता है | प्रशिक्षण केन्द्र रंगाई, बुनाई, मुद्रण, सिलाई, कढाई इत्यादि जैसे मूल्यवर्धित गतिविधियों के प्रशिक्षण एवं उत्पादन के एक सुविधा के रूप में कार्य करता है |टेक्सटाइल कार्यों कि गतिविधि को देखेंगे तो एक 10 स्पिंडल सोलर चरखा 10 कारीगरों को रोजगार प्रदान करता है| प्रशिक्षण केन्द्र खनवां ग्राम में लगभग 500 एकड़ में स्थापित है एवं एक समय में 500 लोगों को विभिन्न गतिविधियों से सम्बंधित प्रशिक्षण प्रदान करने की व्यवस्था है |
यह पहल भारत में अपनी तरह का एक अद्वितीय पहल है एवं खनवां आगामी सौर चरखा मिशन के लिए प्रमुख केन्द्र बन गया है | इसके अलावा, यह परियोजना प्रधानमंत्री के कौशल भारत एवं आजीविका कार्यक्रम के प्रत्यक्ष संरेखण में है | इस पहल से आजतक खनवां ग्राम में 1012 महिला उद्यमी तैयार हो चुके हैं, जिन्होंने अपने घरों में सोलर चरखा अधिष्ठापित किया है | हाल ही में एअक एमिनो एसिड विनिर्माण संयत्र एवं जविक खाद की एक इकाई स्थापित कि गयी है , जिसके लिए मानव बाल, गौ-  मूत्र  एवं गोबर कि आवश्यकता होती है |  यह कच्चे माल स्थानीय रूप से खनवां ग्राम से ही ख़रीदे जा रहे हैं, जिससे की स्थानीय लोगों कि आय में वृद्धि हो रही है |यह पहल अपनी यात्रा फार्म टू फैशन के बारे में चित्रण करता है |
करीब 1.5 वर्ष पूर्व खादी PMEGP (प्रधान मंत्री रोजगार निर्माण कार्यक्रम) के नकारात्मक सूचि में शामिल थी| सोलर चरखा के हस्तक्षेप होने पर इस पहल ने खादी को PMEGP सूचि में शामिल करने के लिए अधिकारीयों को मजबूर किया | वर्तमान में लगभग 3000 महिलाओं को सोलर चरखा पे सूत काटने से देश में लाभ हुआ है |
इस पहल को माननीय प्रधानमन्त्री जी ने अपने “मन कि बात” कार्यक्रम में भी सम्मिलित किया है | यह पहल उनके प्रसिद्ध कथन ” खादी फॉर नेशन, खादी फॉर फैशन एवं खादी फॉर ट्रांसफॉर्मेशन ” से प्रेरित है |

खनवां प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र  – एक संक्षिप्त नजर

  • 2,00,000 वर्ग फीट सोलर उर्जा ग्रिड परिसर |
  • 20,000 वर्ग फीट छायादार परिसर |
  • कार्यक्षेत्र : कटाई, बुनाई, रंगाई, मुद्रण, छपाई और सिलाई |
  • 500 घरों में स्वयं का अधिष्ठापित सोलर चरखा |
  • प्रशिक्षण, रखरखाव, कच्चा माल और धागा की खरीद बिक्री का प्रबंधन प्रशिक्षण केन्द्र के द्वारा किया जाता है |
  • 10 स्पिंडल का 25 सोलर चरखा |
  • 12 स्पिंडल का 50 सोलर चरखा |
  • 16 स्पिंडल का 6 सोलर चरखा |
  • 24 स्पिंडल का 5 सोलर चरखा |
  • 32 स्पिंडल का एक सोलर चरखा |
  • 1 ट्विस्टिंग मशीन |
  • 14 सोलर करघा |
  • 4 जिगर मशीन रंगाई के लिए |
  • 55 आद्योगिक सिलाई मशीन |
  • 67 सिलाई मशीन |
  • 1 शंकु घुमावदार मशीन |
  • 1 हैंक मशीन

 कार्यकारी नमूना

पर जाएँ : नमूना